Breaking News National

इंकार के बाद सरकार ने माना, श्रमिक ट्रेनों में हुई थी 97 लोगों की मौत

After the refusal, the government admitted, 97 people died in labor trains, Indian Parliament, Monsoon Session, Indian Parliament, Simna News

नई दिल्ली ||  14 सितंबर को शुरू हुई संसद की कार्यवाही के दौरान लोकसभा में कुल 10 सांसदों ने प्रवासी श्रमिकों की मौत से जुड़े सवाल पूछे थे। सवाल के जवाब में सरकार ने ये जानकारी सार्वजनिक करने से इनकार कर दिया था। लेकिन आज संसदीय कार्यवाही के दौरान केंद्र सरकार ने पहली बार यह स्वीकार किया है कि कोविड-19  लॉकडाउन के दौरान प्रवासी श्रमिकों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए चलाई गई श्रमिक विशेष रेलगाड़ियों में यात्रा के दौरान 97 लोगों की मौत हुई थी।

यह भी पढ़े- 29 नवंबर से पहले पूरे हो जाएंगे बिहार विधानसभा चुनाव के साथ 65 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव

बता दें कि सांसदों ने अपने सवालों के जरिये केंद्र से ये जानना चाहा कि लॉकडाउन के चलते अपने घरों को लौटने को मजबूर हुए प्रवासी श्रमिकों में से कितने लोगों की मौत हुई है। इसके जवाब में श्रम एवं रोजगार मंत्रालय में राज्य मंत्री संतोष गंगवार ने कहा था, ‘ऐसा कोई आंकड़ा नहीं रखा जाता है।’ इसे लेकर मोदी सरकार आलोचनाओं के घेरे में थी और विपक्ष हमलावर थी कि केंद्र जान-बूझकर ये जानकारी छिपाना चाह रही है। आखिरकार तृणमूल कांग्रेस के डेरेके ओ’ब्रायन द्वारा पूछे गए एक सवाल के लिखित जवाब में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने राज्यसभा को जानकारी दी।

यह भी पढ़े- चिल्ड्रंस नेशनल हॉस्पिटल के शोध में बच्चों को कोरोना और एंटीबॉडी पर चौकाने वाली रिपोर्ट

गोयल ने बताया, ‘राज्य पुलिस द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के आधार पर वर्तमान कोविड-19 संकट के दौरान श्रमिक स्पेशल गाड़ियों में यात्रा करते हुए नौ सितंबर तक 97 लोगों के मरने की सूचना मिली।’ उन्होंने कहा कि मृत्यु के इन 97 मामलों में से 87 मामलों में राज्य पुलिस ने शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा और अब तक संबंधित राज्य पुलिस से 51 पोस्टमार्टम रिपोर्टें प्राप्त हुईं हैं। जिसमें मौत के कारणों का पता लगाया गया है।

उन्होंने कहा, ‘पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में मृत्यु के कारण हृदय गति रुकना, हृदय रोग, ब्रेन हैमरेज, पुरानी गंभीर बीमारी, फेफड़ों की गंभीर बीमारी, जिगर की गंभीर बीमारी आदि बताए गए। गोयल ने बताया कि श्रमिक विशेष गाड़ियों में कुल 63.19 लाख, फंसे हुए श्रमिकों ने यात्रा की।

Related posts

एक कत्ल को छिपाने के लिए 9 लोगों की ली जान, कुएं में मिली इन सब की लाश

admin

सावधान! दिल्ली में आपात बैठक, गुड़गांव के बाद दिल्ली पहुंच रहा है टिड्डी दल,

admin

गूगल, डब्ल्यूएचओ और निजी संस्थाओं ने दी बंपर आर्थिक मदद, 5900 करोड़ रुपये देगें पिचाई

admin

Leave a Comment

UA-148470943-1