Breaking News Political

सीडब्ल्यूसी की बैठक में सोनिया विरोधी करेगें गांंधी से इस्तीफे की मांग, समर्थन की लगी होड़

In CWC meeting, anti-Sonia will demand resignation from Gandhi, competition for support

नई दिल्‍ली || बीते रविवार को कांग्रेस पार्टी में काफी हलचल देखने को मिली। कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक से एक दिन पहले पार्टी में उस वक्त नया सियासी बवंडर खड़ा हो गया जब पूर्णकालिक और जमीनी स्तर पर सक्रिय अध्यक्ष बनाने एवं संगठन में ऊपर से लेकर नीचे तक बदलाव की मांग को लेकर सोनिया गांधी को 23 वरिष्ठ नेताओं की ओर से पत्र लिखे जाने की जानकारी सामने आई।

23 वरिष्ठ नेताओं द्वारा पत्र लिखें जाने की खबरों ने दिनभर सुर्खियां बटोरी। नेतृत्व के मुद्दे पर पार्टी दो खेमे में बंटी नजर आ रही है। वहीं इस खबर के सामने आने के साथ ही पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ एवं युवा नेताओं ने सोनिया और राहुल गांधी के नेतृत्व में भरोसा जताया और इस बात पर जोर दिया कि गांधी-नेहरू परिवार ही पार्टी को एकजुट रख सकता है।

यह भी पढ़े- कोरोना वैक्सीन की कीमतों पर सरकार ने रूख किया साफ, जानें कितनी वैक्सीन है तैयार

कांग्रेस की कई प्रदेश इकाइयों के अध्यक्षों और सांसदों ने भी सोनिया गांधी को पत्र लिखकर उनके और राहुल गांधी के नेतृत्व में विश्वास जताया है। कांग्रेस के भीतर यह पूरा बवंडर सीडब्ल्यूसी की बैठक से एक दिन पहले शुरू हुआ। यह बैठक सोमवार सुबह वीडियो कांफ्रेस के माध्यम से होनी है। लेकिन बैठक से पहले शुरू हुए पत्रों के सिलसिले ने यह साफ कर दिया है कि पार्टी के भीतर बहुत कुछ चल रहा है।  कुछ खबरों में कहा गया कि इस बैठक में सोनिया गांधी पार्टी के अंतरिम अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की पेशकश कर सकती हैं।का

हालांकि कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सोनिया ने किसी के साथ बातचीत में ऐसा कोई इरादा नहीं जताया है। लेकिन वरिष्ठ नेताओं समेत खुद सोनिया गांधी भी इस बात से इंकार नहीं कर सकती है कि पार्टी में विचार बटते दिखाई दे रहे है। आज पार्टी दो धड़ों में बंटती दिखाई दे रही है। जानकारी के अनुसार अमरिंदर सिंह, गहलोत, बघेल लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी और पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद और अश्विनी कुमार ने सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी का पुरजोर समर्थन किया. दूसरी तरफ, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल, मुकुल वासनिक, मनीष तिवारी, शशि थरूर और हरियाणा के पूर्व अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा विरोधी खेमे में नजर आ रहे हैं।

Related posts

देशभर में होगा कोरोना वॉरियर्स का सम्मान, सेना करेगी फ्लाईपास्ट

admin

मध्य प्रदेश में सियासी हलचल हुई तेज़, कमलनाथ ने बुलाई आपात बैठक

admin

बीजेपी बहुमत से 22 कदम दूर, कांग्रेस ने भी की दमदार वापसी

admin

Leave a Comment

UA-148470943-1