14.5 C
New Delhi
28/01/2020
Alert Sports Alert

निशानेबाजी में भारतीय खिलाड़ियों का परचम, ओलंपिक में चूके

एशियाई निशानेबाजी चैम्पियनशिप के दूसरे दिन भारत के खिलाड़ियों ने अपना जलवा दिखाते हुए आठ पदक हासिल किए। भारत के निशानेबाजों जहाँ एशियाई निशानेबाजी चैंम्पियनशिप में आठ पदक हासिल किए वहीं तोक्यो ओलंपिक के लिए दांव पर लगे कम से कम तीन कोटे से चूक गए। इस तरह भारत के पास पदकों की कुल संख्या 13 हो गई है। इससे पहले खिलाड़ियों ने पांच पदक हासिल किए थे। 

तोक्यो ओलंपिक 2020 कोटा हासिल करने की उम्मीद भी टूटी 

केनान चेनाई पुरूष ट्रैप क्वालीफिकेशन में 122 अंक से दूसरे स्थान पर रहे थे लेकिन छह पुरूषों के फाइनल में छठे स्थान पर रहे। वह फाइनल में पहले 25 शॉट में केवल 13 पर सफल निशाना लगा पाए। कुवैत, चीनी ताइपे और कतर ने तीन कोटे स्थान हासिल किए। केनान, मानवजीत सिंह संधू और पृथ्वीराज की भारतीय पुरूष ट्रैप टीम ने कुल 357 अंक के स्कोर से रजत पदक प्राप्त किया जिससे टीम कुवैत से छह अंक से पीछे रही जिसने स्वर्ण पदक जीता। पुरूषों की 25 मीटर रैपिड फायर पिस्टल स्पर्धा में अनीश भानवाला क्वालिफिकेशन में 574 के स्कोर से 11वें स्थान पर रहे। इससे उनकी इस स्पर्धा में उपलब्ध तोक्यो ओलंपिक 2020 के चार में से एक कोटा हासिल करने की उम्मीद भी टूट गई। वह थाईलैंड के प्रतिस्पर्धी से ओलंपिक कोटा चूके जो 10वें स्थान पर रहकर दांव पर लगे चौथे कोटे को हासिल करने में सफल रहे।

चीन और कोरिया दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे 

इसी स्पर्धा में जूनियर वर्ग में भारतीयों ने अपने सीनियर निशानेबाजों की तरह प्रदर्शन दिखाया। आयुष जिंदल, आयुष सांगवान और जपत्येश जसपाल ने टीम स्पर्धा का कांसा प्राप्त किया। भारत ने जूनियर पुरूष और महिला 50 मीटर राइफल प्रोन प्रतियोगिता में दो स्वर्ण, रजत और दो कांस्य पदक जीते। नीरज कुमार, आबिद अली खान और हर्षराजसिंहजी गोहली ने 1845 अंक से चीन और कोरिया से आगे रहते हुए स्वर्ण पदक जीता। नीरज ने अपने 616.3 अंक के प्रयास से व्यक्तिगत रजत और आबिद ने 614.4 अंक के स्कोर से कांस्य पदक प्राप्त किया। निश्चल, भक्ति खामकर और किनोरी कोनार ने 1836.3 अंक के कुल स्कोर से जूनियर महिला प्रोन टीम ने स्वर्ण हासिल किया। चीन और कोरिया दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे। निश्चल और भक्ति ने क्रमश: व्यक्तिगत रजत और कांस्य भी प्राप्त किए।

Related posts

तोक्यो में होने वाले ओलंपिक के लिए पदकों का प्रदर्शन

admin

क्या है धारा- 497, संशोधन की क्यों पड़ी जरुरत

admin

सिंधू, समीर और प्रणीत की हार के साथ भारतीय चुनौती समाप्त

admin

Leave a Comment

UA-148470943-1