Health is Wealth Life & Style

कोरोना से बचकर ज़िदंगी जिए खुलकर , जानें कैसे

Live your life safely from Corona, learn how

कोरोनावायरस जिसकी अभी तक वैक्सीन तैयार नहीं हुई है। जिसकी वजह से लोगों ने मान लिया है इस वायरस को अपनी जिंदगी का हिस्सा बन सकता है। जिसकी लोगों ने पूरी तैयारी करने लगी है। इससे लड़ने के लिए लोगों ने सामाजिक दूरी, घर में रहकर, घर से निकलते हुए मास्क का इस्तेमाल कर और अन्य सुरक्षा निर्देशों का पालन कर खुद को इससे बचाने के और सक्रमित न होने के प्रयास कर सकते हैं। लेकिन जीवन चलाने के लिए घर से निकला तो होगा ही न। ऐसे में संक्रमित होने का खतरा बना रहता है। क्या हो अगर परिवार में कोई कोरोना पॉजिटिव निकल आए, तो क्या किया जाए. जानिए यहां…

कैसे अपने परिवार को इस कोरोना वायरस से बचाएं

पूर्व-रोगसूचक रोगी या प्री सिंप्टोमेटिक पेशंट को गृह और परिवार कल्याण मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार, घर में आइसोलेशन का पालन कर सकते हैं। दिशानिर्देशों में कहा गया है कि चिकित्सा अधिकारी द्वारा व्यक्ति को चिकित्सकीय रूप से एक बहुत ही हल्का मामला / पुन: रोगसूचक मामला सौंपा जाना चाहिए। ऐसे मामलों में सेल्फ आइसोलेशन के लिए और परिवार के लोगों से संपर्क में नहीं आना चाहिए। उनके लिए घर पर भी अगल सुविधा होनी चाहिए। इस लेख में, हम आपको बताते हैं कि परिवार के सदस्य को अगर कोरोना पॉजिटिव है तो उनकी देखभाल कैसे की जाए और किन बातो का ध्यान रखा जाए।

1. रहे कमरे में ही

एक आईजीटीवी में आंतरिक चिकित्सा बोर्ड प्रमाणित, एमडी, डॉक्टर आरिफ़ा कैसोबॉय कहते हैं कि संक्रमित व्यक्ति को एक बाथरूम वाले एक अलग बेडरूम में पृथक रखा जाना चाहिए। अगर घर में उसके लिए अगल से बाथरूम नहीं है, तो उन सतहों को निरंतर कीटाणुमुक्त किया जाना चाहिए जिन्हें ज्यादा छूए जाने की संभावना है जैसे नल, डोर नॉब्स आदि।”

2. एक ही व्यक्त‍ि से संपर्क

वह वेबएमडी इंस्टाग्राम पेज पर पोस्ट किए गए वीडियो में कहती है कि संक्रमित व्यक्ति को, अगर वह स्वस्थ महसूस कर रहा है, तो खुद ही अपनी जगह को साफ करते रहना चाहिए। सफाई और भोजन की आपूर्ति घर के एक व्यक्ति को ही करनी चाहिए। संक्रमित व्यक्ति को रसोई में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।”

3. अगर नहीं है अलग कमरा

अगर आपके घर में ऐसी कोई सुविधा नहीं है कि कोरोनावायरस से संक्रमित व्यक्ति को अलग कमरे में रखा जा सके, तो विश्व स्वास्थ्य संगठन की सिफारिश के अनुसार उसे चिकित्सा मास्क पहनना होगा और अन्य लोगों से 3 फीट की दूरी पर रहना होगा।

डॉ लक्ष्मण जेसानी, सलाहकार, संक्रामक रोग, अपोलो हॉस्पिटल्स, नवी मुंबई, इससे सहमत हैं और कहते हैं कि संक्रमित व्यक्ति को अच्छी तरह हवादार कमरे में होना चाहिए। “एक केयरटेकर 24 घंटे उपलब्ध होना चाहिए, जो रोगी के स्वास्थ्य की निगरानी करेगा, अस्पताल के साथ नियमित रूप से संचार रखेगा, और जिला निगरानी अधिकारी को स्थिति की सूचना देगा।”

डॉ लक्ष्मण जेसानी ने कोरोना मरीज की देखभाल के लिए टिप्स दिए-

– रोगी और देखभाल करने वाले को बातचीत करते समय मास्क, दस्ताने पहनने सहित सभी सावधानियां बरतनी चाहिए.

– रोगी को वरिष्ठ नागरिकों और बच्चों या कमजोर इम्यूनिटी वाले सदस्यों से दूर रखा जाना चाहिए।

– वर्तमान प्रोटोकॉल के अनुसार उपचार पूरा किया जाना चाहिए और पूर्व-लक्षण मामलों के लिए 17 दिनों के बाद घर में आइसोलेशन समाप्त हो सकता है और अगर हल्के लक्षणों के मामले में 10 दिनों के लिए बुखार नहीं है।

– अगर संक्रमित व्यक्ति बुखार और खांसी से बीमार है, तो उसे साबुन और पानी या एलकोहॉल आधारित हाथ रगड़कर हाथों को बार-बार साफ करना चाहिए।

कोरोनावायरस के मरीज की देखभाल करते हुए याद रखें ये बातें

1. घर पर रहें, स्कूल, काम या सार्वजनिक स्थानों पर न जाएं।

2. भरपूर आराम करें और पर्याप्त मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें, पौष्टिक आहार लें।

3. अपने मुंह और नाक को ढकें। खांसते या छींकते समय डिस्पोजेबल टिश्यू का उपयोग करें। उपयोग के बाद उसे नष्ट करें।

4. यदि आपको सांस लेने में कठिनाई महसूस होती है, तो अपनी स्वास्थ्य देखभाल सुविधा को तुरंत कॉल करें।

Related posts

इंटरव्यू में बनानी है अपनी पहचान तो इन बातों का रखें खास ख्याल

admin

जड़ी बूटियों पर हुआ बड़ा खुलासा, सेवन से पहले सावधान

admin

मौसम के बदलने से आपको हो रही है परेशानी, तो हमारे पास है समाधान

admin

Leave a Comment

UA-148470943-1