30.1 C
New Delhi
August 20, 2019
simna
Breaking News National

मोदी-शाह की रणनीति का विपक्ष ने किया समर्थन

Jammu & Kashmir, Article 370

नई दिल्ली || केन्द्र सरकार के द्वारा लिए गए एतिहासिक फैसले के बाद कहीं मोदी-शाह के फैसले का समर्थन किया जा रहा है तो कहीं इसका विरोध। खास बात यह है कि मोदी सरकार के द्वारा अनुच्छेद 370 हटाए जाने और जम्मू एवं कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाए जाने के केंद्र सरकार के प्रस्ताव को एनडीए के साथ विपक्षी दलों का भी भारी समर्थन मिल रहा है। तमिलनाडु की एआईएडीएमके, ओड़िशा की बीजू जनता दल, महाराष्ट्र की शिवसेना, उत्तर प्रदेश की बीएसपी, आंध्र प्रदेश की वाईएसआर कांग्रेस, दिल्ली की आम आदमी पार्टी ने जम्मू-कश्मीर को विशेष अधिकार प्रदान करने वाली संविधान की इस धारा को हटाने का समर्थन किया। हालांकि, कांग्रेस और तमिलनाडु की एमडीएमके ने इसका कड़ा विरोध किया। मोदी-शाह की जबरदस्त रणनीति का ही परिणाम है कि पहले घाटी में सुरक्षा के इंतेजाम किए गए फिर बिना देरी किए यह संशोधन कर जम्मू कश्मीर को भारत में बखूबी शामिल कर लिया है। अब न तो जम्मू-कश्मीर का अलग संविधान होगा और न ही कानून। जो पूरे देश में लागू होगा वहीं जम्मू एवं कश्मीर में भी लागू किया जाएगा।

शिवसेना ने प्रस्ताव का स्वागत किया

सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के सहयोगी दल शिवसेना ने सोमवार को अनुच्छेद 370 हटाने के केंद्र सरकार के निर्णय का स्वागत किया। शिवसेना ने इसे देश के लिए ऐतिहासिक दिन बताया। युवा सेना के अध्यक्ष आदित्य ठाकरे ने एक बयान में कहा, भारत के लिए ऐतिहासिक दिन। अनुच्छेद 370 खत्म, तथा जम्मू एवं कश्मीर अब वास्तव में भारत का हिस्सा। शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अखंड भारत का सपना पूरा करेंगे।

आम आदमी पार्टी ने किया समर्थन

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार के प्रस्ताव का समर्थन करते हुए ट्वीट किया, जम्मू एवं कश्मीर को लेकर किए गए सरकार के फैसले का हम समर्थन करते हैं। हमें उम्मीद है कि सरकार के इस कदम से राज्य में शांति और विकास के मार्ग खुलेंगे।

जम्मू-कश्मीर सही मायनों में भारत का अभिन्न अंग बनाः बीजू जनता दल

बीजू जनता दल ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के संकल्प का स्वागत करते हुए सोमवार को कहा कि ‘जम्मू कश्मीर सही मायनों में आज भारत का अभिन्न अंग बना है।’ पार्टी सांसद प्रसन्न आचार्य ने कहा कि इस फैसले से भारत माता की ताकत बढ़ी है।’ उन्होंने कहा, ‘हम उस दिन का इंतजार कर रहे हैं जब पाकिस्तान के अधीन वाले कश्मीर के हिस्से को भारत में मिलाया जाएगा। हम इस इस संकल्प का स्वागत करते हैं। जम्मू कश्मीर सही मायनों में आज भारत का अभिन्न अंग बना है।’

जयललिता की पार्टी भी समर्थन में

अन्नाद्रमुक ने भी अनुच्छेद 370 हटाने संबंधी संकल्प तथा राज्य पुनर्गठन विधेयक का समर्थन किया । अन्नाद्रमुक के नेता ए नवनीत कृष्णन ने कहा कि उनकी पार्टी इसका समर्थन करती है। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 एक अस्थायी प्रावधान था। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी की दिवंगत नेता जे जयललिता देश की एकता, अखंडता और संप्रभुता को बनाए रखने की पक्षधर थीं।

सरकार के साथ खड़ी हुई बसपा

बीएसपी सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि चूंकि धारा 370 खत्म होने से पूरे देश के मुस्लिमों को जम्मू-कश्मीर में बसने और वहां प्रॉपर्टी बनाने का अधिकार होगा, इसलिए पार्टी प्रमुख मायावती ने इसका समर्थन करने का फैसला किया। मिश्रा ने कहा, ‘हमने पहले भी कहा था कि हम इस बिल का समर्थन करते हैं।

धारा 370 खत्म करना विनाशकारी होगा : महबूबा

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की नेता महबूबा मुफ्ती ने संविधान की धारा 370 को खत्म करने के मोदी सरकार के फैसले को भारतीय लोकतंत्र का सबसे काला दिन बताया। पूर्व मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, 1947 में 2 राष्ट्र के सिद्धांत खारिज करने और भारत के साथ मिलाने के जम्मू एवं कश्मीर नेतृत्व के फैसले का उल्टा असर हुआ। धारा 370 को भंग करने के लिए भारत सरकार का एकतरफा निर्णय गैरकानूनी और असंवैधानिक है।

भाजपा ने सत्ता के नशे में किया ऐसा : गुलाम नबी आजाद

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि आज का दिन भारतीय इतिहास का काला दिन है। बीजेपी सरकार ने सत्ता के नशे में और वोट हासिल करने के लिए एक झटके में अनुच्छेद 370 के साथ 35 ए को खत्म कर दिया।

Related posts

कमलनाथ पर गिर सकती है गाज़, भांजे से आयकर विभाग ने जब्त किए 254 करोड़

admin

दिल्ली की महिला मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन

admin

सिर्फ धार्मिक ही नहीं सामाजिक महत्व भी बकरा ईद को बनाता है खास

admin

Leave a Comment