26 C
New Delhi
15/11/2019
Alert Sports Alert

देश के सर्वश्रेष्ठ हित में फैसला करने के लिए कहूंगा- रिजिजू

Rijiju will ask to decide in the best interest of the country

नई दिल्ली || मुक्केबाज निकहत जरीन की एम सी मेरीकोम के खिलाफ ट्रायल मुकाबला कराने की मांग से उठे विवाद को लेकर खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने स्पष्ट किया कि वह महासंघ को केवल देश और खिलाड़ियों के हित में सर्वश्रेष्ठ फैसला करने के लिए कह सकते हैं। जरीन ने रीजीजू को पत्र लिखकर चीन में अगले साल होने वाले ओलंपिक क्वालीफायर के लिए भारतीय टीम के चयन से पहले मेरीकोम के खिलाफ ट्रायल मुकाबला आयोजित करने की मांग की थी। इससे पहले भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) ने कहा था कि मेरीकोम (51 किग्रा) के हाल में रूस में विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने के प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए वह छह बार की विश्व चैंपियन को चुनने का इरादा रखता है। इसके बाद ही जरीन ने यह पत्र लिखा।

खेल और खिलाड़ियों के सर्वश्रेष्ठ हितों का ध्यान

रिजिजू ने जरीन के पत्र के जवाब में कहा, ‘‘मैं निश्चित तौर पर मुक्केबाजी महासंघ को देश, खेल और खिलाड़ियों के सर्वश्रेष्ठ हितों को ध्यान में रखते हुए फैसला करने के लिये कहूंगा। मंत्री को हालांकि खेल संघों द्वारा खिलाड़ियों के चयन में शामिल नहीं होना चाहिए क्योंकि खेल संघ ओलंपिक चार्टर के अनुसार स्वायत्त हैं।’’ मेरीकोम ने पहले ही साफ कर दिया था कि वह बीएफआई के फैसले के अनुसार चलेगी। बीएफआई ने पहले कहा था कि विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण और रजत पदक विजेता मुक्केबाजों का ही ओलंपिक क्वालीफायर के लिये सीधे चयन होगा। जरीन को विश्व चैंपियनशिप से पहले भी ट्रायल मुकाबले का मौका नहीं दिया गया था। महासंघ ने तब इंडिया ओपन और प्रेसीडेंट कप में स्वर्ण पदक जीतने के कारण मेरीकोम का चयन करने का फैसला किया था।

Related posts

कमलेश तिवारी हत्याकांड के पांच दिनों बाद आरोपी गिरफ्तार, बयान का था मर्डर से संबंध

admin

क्या है धारा- 497, संशोधन की क्यों पड़ी जरुरत

admin

होटल पैराडाइस में लगे कैमरे के कैद हुए तिवारी हत्याकांड के हत्यारे

admin

Leave a Comment

UA-148470943-1