Photo Gallery Viral Station

महिला सशक्तिकरण की मिसाल थी सुषमा स्वराज

दिल्ली|| दिल्ली में अभी शोक का मातम छाया हुआ है । एक नहीं बल्कि दो दिल्ली की  महिला  मुख्यमंत्री का निधन हो गया है । यहाँ आपको बता दें कि बीजेपी की पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज दिल्ली की पहली महिला मुख्यमंत्री रही थी , वहीं दुसरी महिला मुख्यमंत्री शीला दीक्षित भी नहीं रहीं । संयोग की बात तो यह है कि दिल्ली की दोनों पूर्व महिला मुख्यमंत्रियों का 18 दिनों के भीतर निधन हो गया।  दिल्लीवालों ने इतने कम समयमें अपने जमाने में प्रसिद्ध रहीं दो पूर्व मुख्यमंत्रियों को खो दिया। आपको बता दें कि शीला दीक्षित के निधन के बाद सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर शोक जताया था। जहाँ  सुषमा ने लिखा था, ‘शीला दीक्षित के अचानक निधन के बारे में जानकर दुखी हूं. हम राजनीति में विरोधी थे, लेकिन निजी जीवन में दोस्त थे. वह एक बेहतरीन इंसान थीं.’

Sushma Swaraj was an example of women empowerment
Sushma Swaraj was an example of women empowerment
राजनीतिक गलियारों के साथ अपने निजी जीवन को निभाया बखूबी

गौरतलब है कि पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का मंगलवार रात दिल का दौरा पडने से निधन हो गया। घबराहट होने की शिकायत के बाद रात 9.26 बजे सुषमा को एम्स लाया गया। जहां 5 डॉक्टरकी टीम के काफी कोशिश के बाद भी उनकी जान नहीं बचाई जा सकी । पूर्व विदेश मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज अब इस दुनिया में नहीं रहीं। सुषमा स्वराज के निधन की खबर से पूरा देश दुखी है। इनकी जीवनी की बात की जाए तो  सुषमा ने अपनी जीवन यात्रा में तमाम ऐसे मुकाम हासिल किए जिन पर देश को हमेशा गर्व रहेगा। वह सियासी सफर के साथ उन्होंने अपने निजी जीवन को भी बखूबी संजोया । आइए अब जानते हैं उनके जीवन के कुछ महत्वपूर्ण सफर के बारे में ।

बीमारी की वजह से दिया था इस्तीफा

बीजेपी के दिग्गज नेता और पूर्व विदेश मंत्री  का जन्म हरियाणा के अंबाला कैंट में 14 फरवरी 1952 को हुआ था। जहाँ उनके पिता का नाम हरदेव शर्मा और माता का नाम लक्ष्मी देवी था। बात करें उनके करियर की  तो एक भारतीय महिला राजनीतिज्ञ और भारत की पूर्व विदेश मंत्री थी । 2009 में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की संसद में विपक्ष नेता की नेता चुनी गई थी। जहाँ वे भारत की पन्द्रहवीं लोकसभा मे प्रतिपक्ष की नेता रही थी । और वहीं आपको बता दें इससे पहले वे केन्द्रीय मंत्रीमंडल में रह चुकी है और साथ ही दिल्ली की मुख्यमंत्री भी थी। और फिर वह भारत की बीजेपी पार्टी की विदेश मंत्री भी रह चुकी थी लेकिन उन्होने अपने बीमारी की वजह से 24 मई 2019 को अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

Sushma Swaraj was an example of women empowerment
Sushma Swaraj was an example of women empowerment
सुषमा को पसंद है क्लासिकल म्युजिक  

आपको बता दें कि 13 जुलाई 1974 को सुषमा  शर्मा सुषमा स्वराज बनी । जिनके पति का नाम कौशल स्वराज है । जो सर्वोच्च न्यायलय में सहकर्मी के साथ साथी अधिवक्ता थे । सूत्रों की मानो तो कौशत बाद में 6 साल तक राज्यसभा में सांसद रहे, और इसके अलावा वे मिजोरम प्रदेश में राज्यपाल भी रह चुके है।  वहीं इनकी एक बेटी बांसुरी भी है । जो लंदन के इनर टेम्पल में वकालत कर रही है। गौरतलब है कि 67 साल की आयु में 6 अगस्त, 2019 की रात को सुषमा स्वराज का दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया। बताया जाता है सुषमा एनसीसी की बेस्ट स्टूडेन्ट रह चुकी है , और साथ सुषमा को क्लासिकल म्युजिक , कविता, फाइन आर्ट और ड्रामा में काफी दिल्चस्पी थी ।

Related posts

पीठ में खंजर घोपने वाले सऊदी से दुनिया के मुसलमान हुए दरकिनार, इजरायल से समझौता पड़ेगा सऊदी को भारी

admin

सलमान से पंगा लेना अरिजीत को पड़ा भारी, सरेआम माफी मांगने पर भी नहीं माने खान

admin

कोयला देगा भारत के आर्थिक विकास को रफ्तार, कोरोना त्रास्दी का होगा भुगतान

admin

Leave a Comment

UA-148470943-1